WELCOME to our WEBSITE!

प्रस्तावना

राष्ट्रीय संगठन "सकल जटिया समाज" वर्तमान में समाज के सभी व्यक्तियों के सहयोग से कार्यरत है। इस संगठन को समाज में व्याप्त कुरीतियों तथा अंधविश्वास को समाप्त कर अच्छी सोच व समरसता के भाव तथा समाज अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग नाम से जाना जाता है, सभी को एकता के सूत्र में बांधने के प्रयास के साथ स्थापना की गई। तथा संगठन के संरक्षक डॉ. जगदीश जटिया जो राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी थे एवं वर्तमान में भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी के रूप में पदोन्नत होकर सचिवालय भोपाल में पदस्थ है। तथा समाज के प्रत्येक व्यक्ति को संगठन की समस्त गतिविधियों की अपडेट जानकारी समय समय पर प्राप्त होती रहे, इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर वेब साईट तैयार करवाई गई है। ताकि जब भी कोई नीतिगत निर्णय संगठन द्वारा लिया जावे वह समाज के प्रत्येक व्यक्ति तक आसानी से तुरन्त पहुॅंच सके। इसमें समाज का हर व्यक्ति अपना सुझाव भी दे सकेगा। किन्तु सुझाव समाजहित एवं सकारात्मक हो। ऐसे किसी भी सुझाव पर संगठन विचार नहीं करेगा जो उद्देश्यहीन होगें।

सकल जटिया समाज समस्त समाज के बन्धुओं का हार्दिक अभिनन्दन करता है। आज जटिया समाज अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग जाति के नाम पर बंटा हुआ है, जिसकी वैधानिक सामाजिक पहचान बनाने के लिये सकल जटिया समाज का गठन किया गया है। इस संगठन में उन सभी समुदायों को सम्मिलित किया गया है, जिसमे आपस में बेटी व्यवहार है। जिसमे समाज की समस्या या अन्य कार्य जो समाज हित में हो उसका समुचित रूप से निदान करने में आने वाली बाधाओं का निराकरण किया जा सकें। तथा समाज में व्याप्तपारंपरिक कुरीतियाँ, शिक्षा का आभाव सामाजिक असमानता जैसे गंभीर विषय समाज की प्रगति में बाधक है। इसलिए अच्छे सोच एवं समरसता के भाव के साथ कार्य करने का संकल्प लेकर व्यवहारिकता में परिलक्षित करना होगा। इन्हीं लक्षों को ध्यान में रखकर अखिल भारतीय जटिया महासभा का गठन डॉ. जगदीश जटिया मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत दमोह के संरक्षण में 07 अप्रैल 2013 को किया गया। दिनांक 22 सितम्बर 2013 को प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन नीमच में आपके आशीर्वाद एवं सहयोग से सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। इसी क्रम संगठन का द्वितीय राष्ट्रीय अधिवेशन मंदसौर में 14 अप्रैल 2014 को डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर के जयंति पर सम्पन्न हुआ। संगठन का पंजीयन सकल जटिया समाज के नाम से हुआ। इस संगठन में महिला एवं पुरुष दोनों ही की समान भागीदारी है।

LATEST NEWS


महत्वपूर्ण सूचनाएं


Unable to verify user because